Tap to Read ➤

अल्लूरी सीताराम राजू

जानिए कौन थे अल्लूरी सीताराम राजू और क्या था इनका भारतीय स्वतंत्रा आंदोलन में योगदान
chailsy raghuvanshi
अल्लूरी सीताराम राजू को पोडु के नाम से भी जाना जाता है वे एक भारतीय क्रांतिकारी थे। जिन्होंने भारत में ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ सशस्त्र अभियान छेड़ा था।
अल्लूरी सीताराम राजू का जन्म भारत के आंध्र प्रदेश राज्य में एक तेलुगु भाषी परिवार में हुआ था।
अल्लूरी के पिता वेंकट रामा राजू एक पेशेवर फोटोग्राफर थे जो अपने व्यवसाय के लिए राजमुंदरी शहर में बस गए थे और उनकी मां सूर्य नारायणम्मा एक गृहिणी थी।
ग्रामीणों द्वारा अल्लूरी सीताराम राजू के वीरतापूर्ण कारनामों के लिए उनका उपनाम "मन्यम वीरुडु" (जंगल का नायक) रखा गया था।
अल्लूरी सीताराम 1882 के मद्रास वन अधिनियम के जवाब में अंग्रेजों के विरोध में शामिल हुए थे।
1974 की तेलुगु भाषा की फिल्म अल्लूरी सीताराम राजू में उनके जीवन को दर्शाया गया है।
आंध्र प्रदेश सरकार अल्लूरी सीताराम राजू का जन्मदिन, 4 जुलाई को प्रतिवर्ष राज्य उत्सव के रूप में मनाती है।
1924 में  चिंतापल्ले के जंगलों में कोय्यूरु गांव में अंग्रेजों ने अल्लूरी सीताराम राजू फंसा लिया था और उन्हें पकड़ने के बाद एक पेड़ से बांध दिया। जिसके बाद एक फायरिंग दस्ते द्वारा उन्हें मार डाला गया।
2019 में, शेख अब्दुल हकीम द्वारा "अल्लूरी सीता रामराजू" नामक एक पुस्तक तेलुगु भाषा में प्रकाशित की गई थी, जो अल्लूरी के जीवन की घटनाओं का वर्णन करती है।
Add Button Text