Blockchain टेक्नोलॉजी क्या है करियर जॉब वेतन की पूरी डिटेल जानिए

By Careerindia Hindi Desk

Blockchain Technology Career In Hindi वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी को 2022 के वित्तीय वर्ष 2022 के लिए केंद्रीय बजट 2022-23 पेश किया। सीतारमण ने बजट भाषण में केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा (CBDC) की घोषणा की। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा नए वित्तीय वर्ष में अपनी डिजिटल मुद्रा लॉन्च करेगा। भारतीय डिजिटल रुपया ब्लॉकचेन और अन्य प्रौद्योगिकी का उपयोग करके लॉन्च किया जाएगा। डिजिटल मुद्रा अधिक कुशल और सस्ती मुद्रा प्रबंधन प्रणाली की ओर ले जाएगी, जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा। डिजिटल रुपया को भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा विनियमित किया जाएगा। भारतीय डिजिटल रुपया क्रिप्टोकरेंसी की तरह होगी। लोगों में इसे लेकर उत्साह के साथ-साथ चिंताएं भी है।

 
Blockchain टेक्नोलॉजी क्या है करियर जॉब वेतन की पूरी डिटेल जानिए

बता दें कि आर्थिक सर्वेक्षण 2022 की रिपोर्ट में डिजिटल करेंसी, ब्लॉकचेन और क्रिप्टो एसेट्स का कोई जिक्र नहीं था। ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हुए डिजिटल रुपये की शुरुआत से धन प्रबंधन के लिए आवश्यक वित्तीय और भौतिक प्रयासों को कम करने में मदद मिलेगी। सरकार क्रिप्टोकरेंसी के नियमन के मुद्दे पर संतुलित दृष्टिकोण रखेगी, क्योंकि इसका देश की वित्तीय स्थिरता पर प्रभाव पड़ता है। सीतारमण ने क्रिप्टो-आधारित आय पर 30 प्रतिशत कर की घोषणा की है।

आभासी डिजिटल संपत्ति के हस्तांतरण से होने वाली किसी भी आय पर 30 प्रतिशत की दर से कर लगाया जाएगा। अधिग्रहण की लागत को छोड़कर, ऐसी आय की गणना करते समय किसी भी व्यय या भत्ते के संबंध में किसी भी कटौती की अनुमति नहीं दी जाएगी। पिछले साल नवंबर में, निजी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव करने वाला एक क्रिप्टो बिल संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान पेश किया जाना था, जो अभी तक लंबित है। इसी बिल में आरबीआई द्वारा विनियमित एक राष्ट्रीय डिजिटल मुद्रा को चालू करने की योजना का भी उल्लेख किया गया है।

 

ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी परिभाषा
ब्लॉकचैन एक साझा अपरिवर्तनीय खाता बही है, जो एक व्यापार नेटवर्क में लेनदेन रिकॉर्ड करने और संपत्ति को ट्रैक करने की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाता है। किसी भी मूल्य की चीज को ब्लॉकचेन नेटवर्क पर ट्रैक और व्यापार किया जा सकता है। ब्लॉकचेन एक वितरित डेटाबेस है, जिसे कंप्यूटर नेटवर्क के जरिए साझा किया जाता है। लेन-देन को सुरक्षित बनाने के लिए ब्लॉकचेन डिजिटल प्रारूप में इलेक्ट्रॉनिक रूप से जानकारी संग्रहीत करता है।

ब्लॉकचेन क्या है?
ब्लॉकचेन एक नई टेक्नोलॉजी है। जिसे डिस्ट्रीब्यूटेड लेजर टेक्नोलॉजी (डीएलटी) के रूप में जाना जाता है। ब्लॉकचेन तकनीक के जरिए करेंसी के साथ साथ किसी भी चीज को डिजिटल फॉरमेट में बदलकर स्टोर कर सकता है। दरअसल यह एक एक्सचेंज प्रोसेस है, जो डेटा ब्लॉक पर काम करता है। इसमें एक ब्लॉक दूसरे ब्लॉक से कनेक्ट होते हैं। इन ब्लॉक्स को हैक नहीं किया जा सकता है। ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उद्देश्य डॉक्यूमेंट्स को डिजिटली सुरक्षित रखना है। ब्लॉकचेन तकनीक को समझने के लिए आप गूगल डॉक को उदाहरण में ले सकते हैं। जब हम कोई दस्तावेज़ बनाते हैं और उसे लोगों के समूह के साथ साझा करते हैं, तो दस्तावेज़ को कॉपी या स्थानांतरित करने के बजाय वितरित किया जाता है। लेकिन, ब्लॉकचेन गूगल डॉक की तुलना में अधिक जटिल है। आसान शब्दों में कहें तो, ब्लॉकचेन को डिस्ट्रीब्यूटेड लेजर टेक्नोलॉजी के रूप में जाना जाता है, जो विकेंद्रीकरण के उपयोग के माध्यम से किसी भी डिजिटल संपत्ति को अपरिवर्तनीय और पारदर्शी बनाती है।

ब्लॉकचेन कैसे काम करता है?
ब्लॉकचेन डिजिटल जानकारी को रिकॉर्ड और वितरित करने की अनुमति देना है। ब्लॉकचेन अपरिवर्तनीय लेन देन का रिकॉर्ड है, जिसे बदला, हटाया या नष्ट नहीं किया जा सकता है। ब्लॉकचेन को डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर टेक्नोलॉजी (डीएलटी) के रूप में भी जाना जाता है। ब्लॉकचेन को पहली बार 1991 में एक शोध परियोजना के रूप में प्रस्तावित किया गया था, लेकिन वर्ष 2009 में ब्लॉकचेन में बिटकॉइन का उपयोग किया गया। जिसके बाद विभिन्न क्रिप्टोकरेंसी, विकेंद्रीकृत वित्त अनुप्रयोगों, अपूरणीय टोकन और स्मार्ट अनुबंधों के निर्माण में ब्लॉकचेन का उपयोग किया जाने लगा।

ब्लॉकचेन में करियर की संभावनाएं
आज के इस प्रतिस्पर्धा के दौर में हर कोई बेस्ट टेक्नोलॉजी की दुनिया में अपना करियर बनाना चाहता है। ब्लॉकचेन में करियर को लेकर लोकप्रियता काफी बढ़ गई है। यह एक अभूतपूर्व तकनीक है, जो डिजिटल क्रिप्टोकरेंसी के लिए आधार प्रदान करती है। ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के बार सीखना बहुत कठिन काम माना जा सकता है, लेकिन अतिरिक्त प्रयास से आप ब्लॉकचेन तकनीक में अपने शानदार करियर की शुरुआत कर सकते हैं।

ब्लॉकचेन एक उपयोगी उपकरण है। यह वित्तीय क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के लिए बहुत उपयोगी है, क्योंकि यह उपयोगकर्ताओं को किसी अज्ञात व्यक्ति की भागीदारी के बिना लेनदेन तक पहुंचने और संचालित करने की अनुमति देता है। उपयोगकर्ताओं की जानकारी को एन्क्रिप्ट करके, ये लेनदेन बिना किसी बाधा के और लंबी अवधि के लिए किए जाते हैं। इसमें चोरी का खतरा कम है, क्योंकि प्रत्येक क्रिप्टोकुरेंसी में अपनी एक यूनिक संख्या होती है, जो केवल मालिक के पास होती है। ब्लॉकचेन में करियर बनाना हर किसी के बस की बात नहीं है, लेकिन सही मार्गदर्शन मिल जाए तो इसमें एक उज्ज्वल भविष्य बनाया जा सकता है। इसके लिए सबसे पहली और महत्वपूर्ण बात यह है कि ब्लॉकचेन तकनीक और सहयोगी दृष्टिकोण के मूल सिद्धांतों को सीखना है।

किसी भी फिल्ड में नौकरी के लिए आपके पास उसका कौशल अनुभव होना जरूरी है। ब्लॉकचेन आपके करियर को आगे बढ़ा सकता है, कुछ क्लाइंट प्रोजेक्ट शुरू करने के लिए केवल कुछ पार्ट-टाइम डेवलपर्स के साथ शुरुआत करते हैं और फिर एक बड़ी फुल-टाइम टीम के साथ ब्लॉकचेन का काम शुरू कर सकते हैं। हालांकि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में नौकरियों की संख्या काफी कम है, इसलिए एक आईटी एक्सपर्ट की तुलना में ब्लॉकचेन एक्सपर्ट का वेतन काफी अधिक होता है। ब्लॉकचेन में करियर के कई अवसर हैं, लेकिन फिर भी लोग इसके बारे में कम जागरूक है।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में करियर विकल्प
बीएफएसआई क्षेत्र (बैंकिंग, वित्तीय सेवाएं और बीमा) स्वास्थ्य सेवा, आपूर्ति श्रृंखला आदि जैसे हर क्षेत्र में ब्लॉकचेन पेशेवरों की मांग है। ब्लॉकचैन डेवलपर, ब्लॉकचैन क्वालिटी इंजीनियर, लीगल कंसल्टेंट, डिज़ाइनर, प्रोजेक्ट मैनेजर और प्रोडक्ट मैनेजर आदि के रूप में नौकरी मिल सकती है। ब्लॉकचेन एक ऐसी तकनीक है जो लंबे समय तक बनी रहेगी और यह एक ऐसी जगह है जहां लोग अपना करियर बना सकते हैं। जैसे-जैसे ब्लॉकचेन उद्योग का विस्तार होता है, ब्लॉकचेन कंपनी द्वारा नियोजित होने की संभावना बढ़ रही है और कई विकल्प उपलब्ध हैं। बड़ी आईटी कंपनियां, बड़ी कंपनियां, बड़े बैंक, सरकारें और छोटे व्यवसाय में ब्लॉकचेन एक्सपर्ट्स की डिमांड काफी अधिक है।

ब्लॉकचेन कोर्स
ब्लॉकचैन डेवलपर
ब्लॉकचेन आर्किटेक्ट
ब्लॉकचैन सिक्योरिटी इंजीनियर
ब्लॉकचेन उत्पाद प्रबंधक
ब्लॉकचैन यूएक्स डिजाइनर
ब्लॉकचैन क्वालिटी इंजीनियर
क्लाउड कंप्यूटिंग

ब्लॉकचेन कार्य
ब्लॉकचैन डेवलपर: ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी में सबसे पहले सॉफ्टवेयर डेवलपर आता है।
ब्लॉकचेन आर्किटेक्ट: ब्लॉकचेन सिस्टम में आर्किटेक्ट योजना और एकीकरण करते हैं।
ब्लॉकचैन सिक्योरिटी इंजीनियर: ब्लॉकचैन सिक्योरिटी इंजीनियर मुख्य रूप से आईटी का काम देखते हैं।
ब्लॉकचेन उत्पाद प्रबंधक: एक ब्लॉकचेन परियोजना प्रबंधक परियोजना की देखरेख और कंपनी और ब्लॉकचेन विशेषज्ञों के बीच संपर्क बनाए रखने का प्रभारी होता है।
ब्लॉकचैन यूएक्स डिजाइनर: यूएक्स डिजाइनरों को ब्लॉकचेन तकनीक के साथ काम करना होता है।
ब्लॉकचैन क्वालिटी इंजीनियर: ब्लॉकचैन क्वालिटी इंजीनियर्स को सभी ऐप्स के परीक्षण पर काम करना होता है।
क्लाउड कंप्यूटिंग: फोटो गैलरी बैकअप से लेकर ईमेल स्टोरेज, डेस्कटॉप और सॉफ्टवेयर एनालिटिक्स आदि का काम करना होता है।

ब्लॉकचेन वेतन
ब्लॉकचैन उद्योग में एक विशेषज्ञ को मापदंडों के आधार पर प्रति वर्ष 500,000 रुपये से 20,00,000 लाख रुपये तक का वेतन मिलता है। ब्लॉकचेन डेवलपर का औसत वार्षिक वेतन प्रति वर्ष 7 से 8 लाख रुपये तक मिल सकता है।

ब्लॉकचैन डेवलपर की शुरुआती सैलरी 8 से 10 लाख रुपये के बीच होती है।
ब्लॉकचेन आर्किटेक्ट काऔसत वेतन 80 लाख रुपये प्रति वर्ष तक होता है।
ब्लॉकचैन सिक्योरिटी इंजीनियर का औसत वेतन 81 लाख रुपये प्रति वर्ष तक हो सकता है।
ब्लॉकचेन उत्पाद प्रबंधक का औसत वेतन 72 लाख रुपये प्रति वर्ष हो सकता है।
ब्लॉकचैन यूएक्स डिजाइनर का औसत वेतन 7993753 रुपये प्रतिवर्ष हो सकता है।
ब्लॉकचैन क्वालिटी इंजीनियर को 5917311 प्रति वर्ष का औसत वेतन मिलता है।
क्लाउड कंप्यूटिंग में $927.51 बिलियन मिलते तक की सैलरी मिलती है।

Education Budget 2022 Highlights शिक्षा बजट 2022 की 5 बड़ी घोषणाएं

MP School Reopen 1 फरवरी से एमपी में खुलेंगे स्कूल होस्टल, दिशानिर्देश जारी

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
What is Blockchain Technology Career Salary Work Opportunities: Finance Minister Nirmala Sitharaman presented the Union Budget 2022-23 for the fiscal year 2022 of 2022 on 1 February. Sitharaman announced the Central Bank Digital Currency (CBDC) in her budget speech. Reserve Bank of India (RBI) will launch its digital currency in the new financial year. Indian Digital Rupee will be launched using Blockchain and other technology. The digital currency will lead to a more efficient and cheaper currency management system, which will boost the Indian economy. The digital rupee will be regulated by the Reserve Bank of India.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X