विदेश में पढ़ाई करने से पहले हर भारतीय छात्र को पास करने होते है ये टेस्ट

एक रिसर्च के अनुसार हर साल लगभग डेढ़ लाख भारतीय छात्र विदेशों में पढ़ाई के लिए अप्लाई करते है। सिर्फ अमेरिका में ही हर साल करीब 25 हजार भारतीय छात्र पढ़ाई करने जाते है। लेकिन क्या आप जानते है कि विदेश में पढ़ाई करने से पहले भारतीय छात्रों को कुछ टेस्ट या प्रवेश परीक्षाएं देनी पड़ती है। इन परीक्षाओं में पास होने के बाद ही कोई भारतीय छात्र विदेश में जाकर पढ़ाई कर सकता है। आज हम आपको बताने जा रहे है कुछ ऐसी ही प्रवेश परीक्षाओं के बारे में जिन्हे क्लीयर करने के बाद ही भारतीय छात्रों को विदेशी शिक्षण संस्थानों में प्रवेश मिलता है।

 

1.टेस्ट ऑफ इंग्लिश एज ए फॉरेन लैंग्वेज (टॉफेल)-

विदेश में पढ़ाई के लिए इस टेस्ट का स्कोर कार्ड होना जरूरी है। टॉफेल का स्कोर कार्ड अमेरिका सहित दुनिया के 130 देशों में मान्य होता है। ये स्कोर सिर्फ दो साल के लिए ही मान्य रहता है। लेकिन अब अधिकतर विदेशी यूनिवर्सिटी आईबीटी (इंटरनेट बेस्ड टेस्ट) लेती है, जिसमें केवल आपकी इंग्लिश स्पीकिंग की परख की जाती है। वहीं टॉफेल में रीडिंग, लिसनिंग, राइटिंग और स्पीकिंग की परख की जती है।

2.इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग (आईइएलटीएस)-

आईइएलटीएस एग्जाम से छात्र के अंग्रेजी ज्ञान की परख की जाती है। इस परीक्षा को संयुक्त रूप से ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, कनाडा, आयरलैंड, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका करवाती है। इस टेस्ट का स्कोर ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, कनाडा, आयरलैंड, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका के साथ ही कुछ अमेरिकन कॉलेज में भी मान्य है।

3.ग्रेजुएट मैनेजमेंट टेस्ट (जीमैट)-

दुनिया के टॉप मैनेजमेंट कॉलेज में एडिशन के लिए जीमैट का एग्जाम देना जरूरी है। जीमैट का स्कोर दुनिया के 1900 बिजनेस स्कूलों में मान्य है। जीमैट में एनालिटिकल राइटिंग एसेसमेंट, क्वांटिटेटिव एंड वर्बल एबीलिटी से संबंधित सवाल पूछे जाते है।

 

4.स्कॉलिस्टिक एप्टीट्यूड टेस्ट (सैट)-

अगर आप अमेरिका के किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेना चाहते है तो आपको स्कॉलिस्टिक एप्टीट्यूड टेस्ट (सैट) से होकर गुजरना होता है। इस टेस्ट को एजुकेशन टेस्टिंग सर्विस (इटीएस) आयोजित करती है। इस टेस्ट में मैथ्स, वर्बल रीजनिंग के साथ ही आपके समझने की क्षमता की परख की जाती है।

5.ग्रेजुएट रिकॉर्ड एग्जामिनेशन (जीआरइ)-

अमेरिका के कई कॉलेज में ग्रेजुएशन लेवल की शिक्षा प्राप्त करने के लिए आपको पहले जीआरइ का स्कोर कार्ड हासिल करना होता है। इस एग्जाम का पैटर्न सैट एग्जाम की तरह ही होता है।

6.मेडिकल कॉलेज एडमिशन टेस्ट (एमकैट)-

अगर आप अमेरिका या कनाडा से मेडिकल की शिक्षा प्राप्त करना चाहते है तो आपको एमकैट का वेलिड स्कोर कार्ड हासिल करना होगा. अमेरिका की कई यूनिवर्सिटी और कनाडा के कई मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के लिए एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन मेडिकल कॉलेज एमकैट परीक्षा का आयोजन करता है। इस परीक्षा में वर्बल रीजनिंग, फिजिकल साइंस, बायोलॉजिकल साइंस और राइटिंग सैंपल के सवाल पूछे जाते है।

7.टेस्ट ऑफ इंग्लिश फॉर इंटरनेशनल कम्युनिकेशन-

किसी भी देश में जाकर बिजनेस की पढ़ाई करने के लिए इस टेस्ट के स्कोर कार्ड की जरूरत पड़ती है। यह टेस्ट अंग्रेजी भाषा में आपके कम्युनिकेशन की परख करती है। इस टेस्ट में कॉरपोरेट डेवलपमेंट, फाइनेंस, बजटिंग, कॉरपोरेट प्रापर्टी, आईटी, पर्सनल, टेक्निकल जैसे विषयों के प्रश्न पूछे जाते है।

दिल्ली यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट के पदों पर इंटरव्यू से हो रही है भर्ती

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Entrance Test for Study Abroad: अगर आप विदेश जाकर पढ़ाई करना चाहते है तो आज हम आपको बता दें कि किसी विदेशी यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेने से पहले आपको कुछ टेस्ट देने पड़ते है। If you want to study abroad, then today we will tell you that you have to give some tests before taking admission in any foreign university. Check Notification, Vacancies List, Eligibility Criteria, Online Application Form, Pay Scale, Examination Dates and much more at Careerindia.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X