Teachers Day Speech In Hindi 2020 Idea: शिक्षक दिवस पर भाषण हिंदी में कैसे लिखें पढ़ें जानिए यहां

By Careerindia Hindi Desk

Teachers Day Speech In Hindi 2020 / शिक्षक दिवस पर भाषण की तैयारी यहां से करें: भारत में 5 सितंबर को डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती को राष्ट्रीय शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। 5 सितंबर 1962 से लगातार हर वर्ष शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है। स्कूल, कॉलेज, ऑफिस या किसी मंच से अगर आप भी शिक्षक दिवस पर भाषण देने या पढ़ना-लिखना चाहते हैं तो हम आपको इस शिक्षक दिवस पर लेख के माध्यम से सबसे बेस्ट शिक्षक दिवस पर भाषण निबंध लिखने की कला सिखाएंगे। लोग एक दूसरे को शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं सन्देश भेजते हैं। गूगल ट्रेंड पर शिक्षक दिवस पर भाषण, शिक्षक दिवस पर दोहे, शिक्षक दिवस शायरी, शिक्षक दिवस पर निबंध , शिक्षक दिवस पर बाल कविता (Teachers Day Poem), शिक्षक दिवस पर हास्य शायरी, शिक्षक दिवस कोट्स (Teachers Day Quotes), शिक्षक दिवस स्टेटस और शिक्षक दिवस पर शायरी खूब सर्च की जाती है। लेकिन हम आपको शिक्षक दिवस पर भाषण (Speech On Teachers Day In Hindi), शिक्षक दिवस पर निबंध (Essay On Teachers Day In Hindi) और शिक्षक दिवस पर लेख (Teachers Day Article In Hindi) कैसे लिखें इसके बारे में बताएंगे, तो आइये जानते हैं शिक्षक दिवस पर भाषण निबंध लेख कैसे लिखें...

Teachers Day Speech In Hindi 2020 Idea: शिक्षक दिवस पर भाषण हिंदी में कैसे लिखें पढ़ें जानिए यहां

 

शिक्षक दिवस पर भाषण (Teachers Day Speech In Hindi)

अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है ?

अन्य देश शिक्षक दिवस अलग-अलग तारीखों में मनाते हैं, जबकि अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस या विश्व शिक्षक दिवस हर साल 5 अक्टूबर को मनाया जाता है। जबकि भारत में राष्ट्रीय शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है।

शिक्षक दिवस कैसे मनाते हैं?

भारत में हर वर्ष 5 सितंबर को हमारे शिक्षकों के सम्मान में भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। छात्र अपने शिक्षकों को उपहार भेंट करते हैं। शिक्षक दिवस के अवसर पर स्कूलों में विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। सीनयर छात्र स्कूल कॉलेज में शिक्षक की भूमिका निभाते हैं औरशिक्षक दिवस पर क्विज, शिक्षक दिवस पर कविता, शिक्षक दिवस पर कहानी, शिक्षक दिवस पर दोहे, शिक्षक दिवस पर भाषण और शिक्षक दिवस पर निबंध प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाता है। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत सभी लोग डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के साथ साथ अपने गुरु को याद करते हैं, उन्हें उपहार देते हैं।

 

5 सितंबर को शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है?

5 सितंबर भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती होती है। जबकि उन्हें भारत के पहले उपराष्ट्रपति और भारत के दूसरे राष्ट्रपति होने के लिए जाना जाता है, लेकिन उससे पहले वे एक महान शिक्षक के रूप में प्रसिद्ध हैं। भारत में प्रत्येक वर्ष डॉ राधाकृष्णन की स्मृति में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

शिक्षक दिवस मनाने की शुरुआत कैसे हुई?

कहानी यह है तब की है जब उनके छात्रों ने उनसे उनका जन्म दिन मनाने की अनुमति देने का अनुरोध किया, तो उन्होंने जोर देकर कहा कि अपना जन्मदिन अलग से मनाने के बजाय, 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए तो यह मेरे सौभाग्य की बात होगी। उसके बाद 1962 से भारत में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध कैसे लिखें ?

5 सितंबर 1888 को भारत के पूर्व राष्टपति और महान शिक्षक डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म मद्रास के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ। शिक्षक दिवस का महत्त्व इस बात से और अधिक हो जाता है कि डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती को शिक्षक दिवस के रूप में 5 सितंबर को मनाया जाता है। 1954 में डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न से सम्मानित किया गया और उन्हें नोबेल पुरस्कार के लिए 27 बार नामांकित किया गया। उन्होंने अपने जीवन के 40 साल अध्यापन के लिए समर्पित किए।

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन कौन है ?

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के बारे में हर कोई जनता है, वह एक महान शिक्षक रहे हैं। डॉ सर्वपल्ली को अपने श्रेय की कई उपलब्धियाँ प्राप्त थीं। एक शिक्षक के रूप में, उन्होंने 1931- 1936 तक कलकत्ता विश्वविद्यालय और चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज में छात्रों को पढ़ाया। 1936 में, वह ऑक्सफोर्ड में पूर्वी धर्म और नैतिकता के स्पेलिंग प्रोफेसर बने, एक ऐसा स्थान जो उन्होंने 16 वर्षों तक बनाए रखा। डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन हमेशा मदद के लिए आगे आये, वह भारत में बुजुर्ग की मदद के लिए हेल्पेज इंडिया NGO के संस्थापक के रूप में अपनी सेवाएं देते रहे।

राष्ट्र के दूसरे राष्ट्रपति के रूप में अपनी प्रतिष्ठित स्थिति का जश्न मनाने के लिए, कई छात्रों ने डॉ राधाकृष्णन से संपर्क किया और सुझाव दिया कि उनके जन्मदिन को 'राधाकृष्णन दिवस' के रूप में मनाया जाना चाहिए। लेकिन परोपकारी शिक्षक और भारत रत्न ने कहा कि यह उनका सौभाग्य होगा यदि उनका जन्मदिन, यानी 5 सितंबर, 'शिक्षक दिवस' के रूप में मनाया जाता है। यह उस दिन से है कि 5 सितंबर शिक्षकों को समर्पित किया गया है और पूरे राष्ट्र ने उन्हें समाज में उनके योगदान के लिए सलाम किया है।

यहां सभी को शिक्षक दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं!

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Teachers Day Speech in Hindi 2020 / how to Prepare for speech on Teachers Day from here: Dr. Sarvepalli Radhakrishnan's birth anniversary is celebrated as National Teachers' Day on 5 September in India. Since 5 September 1962, Teachers' Day is being celebrated continuously every year. From school, college, office or any platform, if you also want to give a speech or read on Teacher's Day, then through this article on this Teacher's Day, we will teach you the art of writing a speech on the best teacher's day. People send each other the best wishes of teachers day. Speeches on Teachers 'Day, Teachers' Day Couples, Teachers 'Day Shayari, Teachers' Day Essays, Teachers 'Day, Children's Poetry on Teachers' Day, Humor Shayari on Teachers 'Day and Shayari on Teachers' Day are searched extensively. But we will tell you about how to write speeches on teachers day, essays on teachers day and articles on teachers day, so let us know how to write speech essay articles on teachers day…
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X