सीबीएसई शेष परीक्षाओं को रद्द कर, आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अंक आवंटित करे: सुप्रीम कोर्ट

By Careerindia Hindi Desk

नई दिल्ली: भारत के सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सीबीएसई से कहा कि वह कक्षा 10वीं और 12वीं की शेष बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अंक आवंटित करे। न्यायमूर्ति एएम खानविल्कर की अध्यक्षता वाली 3-न्यायाधीशों की पीठ ने सीबीएसई को निर्देश देने और मंगलवार तक सूचित करने को कहा है। अदालत एक अभिभावक अमित बाथला की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जो वर्तमान स्थिति में परीक्षा को रद्द करने की मांग कर रहा था।

सीबीएसई शेष परीक्षाओं को रद्द कर, आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अंक आवंटित करे: सुप्रीम कोर्ट

 

सीबीएसई ने पहले 1 जुलाई से 15 जुलाई के बीच शेष पेपरों के लिए परीक्षा आयोजित करने की योजना बनाई थी। यह याचिका छात्रों के कुछ अभिभावकों ने दायर की थी जो 12 वीं कक्षा की परीक्षा दे रहे हैं। याचिका ने सीबीएसई को निर्देश दिया कि वह पहले से ही आयोजित परीक्षा के आधार पर परिणाम घोषित करे और शेष विषयों के आंतरिक मूल्यांकन के अंकों के साथ औसत आधार पर गणना करे। लाखों छात्रों की सुरक्षा पर चिंता जताते हुए, दलील में कहा गया था कि वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या में वृद्धि के बीच अगर उन्हें परीक्षाओं में शामिल होना पड़ता है, तो उन्हें COVID -19 संक्रमण से अवगत कराया जा सकता है।

CBSE 10th Result 2020 Expected Date: सीबीएसई 10वीं रिजल्ट 2020 कब आएगा जानिए

CBSE 12th Result 2020 Date : सीबीएसई 12वीं रिजल्ट 2020 घोषित होगा इस दिन

 

याचिका में यह भी आरोप लगाया गया था कि कोरोनावायरस महामारी के बढ़ते मामलों को देखते हुए, सीबीएसई ने अपने लगभग 250 स्कूलों के लिए दसवीं और बारहवीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है जो कि विदेश में स्थित हैं और या तो व्यावहारिक परीक्षाओं के आधार पर आयोजित या आंतरिक मूल्यांकन अंक देने के मानदंड को अपनाया है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
New Delhi: The Supreme Court of India on Wednesday asked the CBSE to cancel the remaining board exams of class 10th and 12th and allot marks on the basis of internal assessment. A 3-judge bench headed by Justice AM Khanwilkar has asked the CBSE to direct and inform by Tuesday. The court was hearing the plea of ​​a guardian Amit Bathla, who was seeking cancellation of the examination in the present case.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Careerindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Careerindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more