World Zoonoses Day 2022: कब और क्यों मनाया जाता है विश्व जूनोज दिवस, वर्ल्ड जूनोज डे थीम 2022

विश्व जूनोज दिवस प्रतिवर्ष 6 जुलाई को मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य उन बीमारियों पर प्रकाश डालना है जो जानवरों से पैदा होकर मनुष्यों में फैल सकती हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के एक अध्ययन में पाया गया है की सभी मौजूदा रोगों में से 60% रोग जूनोटिक हैं। बता दें कि 6 जुलाई, 1885 को, फ्रांसीसी जीवविज्ञानी लुई पाश्चर ने जूनोटिक रोग रेबीज के खिलाफ पहली टीकाकरण की पहली खुराक दी। जिस वजह से हर साल विश्व जूनोज दिवस 6 जुलाई को मनाया जाता है।
वर्ल्ड जूनोज डे थीम 2022: "लेट्स ब्रेक द चेन ऑफ़ जूनोटिक ट्रांसमिशन"

 
 कब और क्यों मनाया जाता है विश्व जूनोज दिवस, वर्ल्ड जूनोज डे थीम 2022

जूनोसिस रोग कैसे फैलता है?

जूनोसिस रोगों को फैलाने में जानवर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि 75 प्रतिशत नई या उभरती हुई बीमारियां इन्हीं से उत्पन्न होती हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, जूनोटिक रोग का संचरण जानवरों के संपर्क में आने से फैलता है जैसे मांस या पशु उत्पादों के सेवन करना से।

जूनोसिस रोग की रोकथाम और नियंत्रण

चूंकि जूनोटिस रोग विभिन्न प्रकार के होते हैं, इसलिए रोकथाम और इलाज भी अलग-अलग होते हैं। हालांकि, कृषि क्षेत्र में जानवरों की देखभाल के लिए सुरक्षित और उपयुक्त दिशा-निर्देश जैसी कुछ प्रथाएं खाद्य जनित जूनोटिक रोग की संभावना को कम करने में मदद कर सकती हैं।
स्वच्छ पेयजल और अपशिष्ट हटाने के मानकों के साथ-साथ प्राकृतिक वातावरण में सतही जल की सुरक्षा भी ऐसी बीमारी के प्रसार को रोकने के प्रभावी तरीके हैं। उचित स्वच्छता बनाए रखना जैसे जानवरों के संपर्क में आने के बाद हाथ धोना, जूनोटिक रोगों के सामुदायिक प्रसार को कम कर सकता है।

 

विश्व जूनोज दिवस का इतिहास

6 जुलाई, 1885 को, फ्रांसीसी जीवविज्ञानी लुई पाश्चर ने एक पागल कुत्ते द्वारा काटे गए एक छोटे लड़के को पहला रेबीज टीका सफलतापूर्वक दिया था। टीके ने न केवल बच्चे को रेबीज होने से रोका बल्कि उसकी जान भी बचाई। हालांकि, रेबीज कई जूनोटिक रोगों का सिर्फ एक उदाहरण है। एवियन इन्फ्लूएंजा, इबोला और वेस्ट नाइल जैसे वायरस भी जूनोटिक रोगों का ही उदाहरण हैं।

जूनोटिक एक तरह का रोगजनक वायरल होता है जो कि बैक्टीरिया या परजीवी हो सकते हैं। ये किसी जानवर के डायरेक्ट संपर्क या इंडारेक्ट संपर्क जैसे कि भोजन, पानी या पर्यावरण के माध्यम से मनुष्यों में फैल सकते हैं। यह एक मध्यस्थ प्रजाति के माध्यम से भी फैल सकता है। जूनोटिक केवल जंगली जानवरों जैसे चमगादड़ या बंदर से ही उत्पन्न नहीं होता है। यह पालतू जानवरों और खेत में होने वाले जानवरों से भी आ सकता है। भोजन के लिए उठाए गए जानवरों में एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग से जूनोटिक रोगजनकों के दवा प्रतिरोधी उपभेदों की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए जूनोटिक संक्रमणों में जानवरों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

चूंकि जूनोटिक रोग कई प्रकार के होते हैं, इसलिए एंटीबायोटिक्स जैसे कई प्रकार के उपचार भी होते हैं। कृषि उद्योग में पशुओं की देखभाल के लिए सुरक्षित दिशानिर्देश जैसे खाद्य जनित जूनोटिक रोगों के प्रसार को रोकने में कुछ प्रथाएं मदद कर सकती हैं। स्वच्छ पेयजल तक पहुंच और उचित बीमारियों के प्रसार को कम करने के प्रभावी तरीके हैं। घरेलू पालतू जानवरों का टीकाकरण और उचित स्वच्छता बनाए रखना जैसे जानवरों के निकट संपर्क के बाद अपने हाथ धोना भी मदद कर सकता है।

मनुष्यों को ज्ञात 10 संक्रामक रोगों में से छह में एक पशु जलाशय होता है। एक बड़ी चिंता यह है कि रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों के अनुसार, हर 4 में से 3 नए या उभरते संक्रामक रोग (ईआईडी) जानवरों से आते हैं। यह अनुमान लगाया गया है कि हर साल मानव बीमारी के लगभग 2.6 बिलियन मामलों के लिए ज़ूनोज़ जिम्मेदार होते हैं और 2.7 मिलियन लोग इससे मर जाते हैं। यूएनईपी ने 2016 की एक रिपोर्ट में कहा, "पिछले दो दशकों में, उभरती बीमारियों पर 100 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक की प्रत्यक्ष लागत आई है।" इसमें वर्तमान महामारी और इसकी आर्थिक लागत $7-16 ट्रिलियन आंकी गई है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किससे पूछते हैं।

टाइमलाइन
· 2300 ई.पू.-रेबीज पहले दर्ज किया गया-बाबुल का मोज़ेक एस्मुना कोड मनुष्यों और कुत्तों में मौत का कारण बनने वाले रेबीज का पहला लिखित विवरण दिखाता है।
· 29 सितंबर, 1976-इबोला की खोज की गई- इसका नाम कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में इबोला नदी के नाम पर रखा गया था।
· 2009-स्वाइन फ्लू का प्रकोप-सी.डी.सी. अनुमान है कि H.1.N.1 के कारण वैश्विक मृत्यु दर। इन्फ्लूएंजा 284,000 से अधिक है।
· 30 जनवरी, 2020-कोविड-19 महामारी की शुरुआत-डब्ल्यूएचओ ने नोवेल कोरोनावायरस के प्रकोप को दुनिया भर में चिंता का एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया है।

वन हेल्थ क्या है?

'वन हेल्थ' एक ऐसा दृष्टिकोण है जिसमें बेहतर सार्वजनिक स्वास्थ्य परिणाम प्राप्त करने के लिए कई क्षेत्र संवाद करते हैं और एक साथ काम करते हैं। वन हेल्थ दृष्टिकोण विशेष रूप से प्रासंगिक है जिसमें ज़ूनोस का नियंत्रण शामिल है (ऐसी बीमारियां जो जानवरों और मनुष्यों के बीच फैल सकती हैं, जैसे कि एवियन फ्लू, रेबीज और रिफ्ट वैली फीवर)। मानव-पशु-पर्यावरण इंटरफेस पर भविष्य के प्रकोपों और महामारियों के लिए साझा खतरों के प्रबंधन के लिए एक स्वास्थ्य दृष्टिकोण महत्वपूर्ण है।

ओपन डब्ल्यूएचओ वन हेल्थ चैनल पर अब तीन नए कोर्स उपलब्ध हैं, जो दुनिया भर के शिक्षार्थियों को जूनोटिक रोगों के लिए एक स्वास्थ्य दृष्टिकोण के सिद्धांतों और सर्वोत्तम प्रथाओं का पता लगाने की अनुमति देते हैं। पहला कोर्स मानव और पशु स्वास्थ्य क्षेत्रों को बीमारी की तैयारी और प्रतिक्रिया के लिए साझा लक्ष्यों को पूरा करने के लिए उनके काम को 'पुल' करने में मदद करने के लिए अंतरराष्ट्रीय ढांचे की महत्वपूर्ण भूमिका का परिचय देता है। एक बार जब शिक्षार्थी अपने देश के संदर्भ में सहयोगी कार्य की भूमिका को समझ जाते हैं, तो वे त्रिपक्षीय ज़ूनोज गाइड और इसके संचालन उपकरणों में निर्धारित व्यावहारिक दृष्टिकोणों का पता लगा सकते हैं।

डब्ल्यूएचओ इसे "एक संक्रामक बीमारी के रूप में बताता है जो कि जानवरों से मनुष्यों में फैल रही है। जूनोटिक रोगजनक बैक्टीरिया, वायरल या परजीवी हो सकते हैं, या इसमें अपरंपरागत एजेंट शामिल हो सकते हैं और सीधे संपर्क या भोजन, पानी या पर्यावरण के माध्यम से मनुष्यों में फैल सकते हैं। जिससे लोग संक्रामक हो सकते हैं और एक संक्रमित इंसान इसे दूसरों में फैला सकता है, जो अंततः एक वैश्विक महामारी का रूप ले सकता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
World Zoonoses Day is observed annually on 6 July. The purpose of this day is to throw light on the diseases that can be transmitted from animals to humans. A CDC study found that 60% of all existing diseases are zoonotic. On July 6, 1885, French biologist Louis Pasteur gave the first dose of the first vaccination against the zoonotic disease rabies. Because of which World Zoonoses Day is celebrated every year on 6 July.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X