Engineers Day 2022: ये हैं भारत की टॉप 10 महिला इंजीनियर

Engineers Day 2022 Top 10 Female Civil Engineers In India: देश के महान इंजीनियर सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जयंती के उपलक्ष में भारत में हर साल 15 सितंबर को इंजीनियर दिवस मनाया जाता है। इंजीनियरिंग को पुरुषों की फील्ड मानी जाती है। लेकिन भारत की महिलायें किसी से कम नहीं हैं, वह हमेशा पुरुषों से कंधे से कंधा मिलकर चलती हैं। भारत की प्रगीत और विकास कार्यों में पुरुषों के साथ साथ महिला इंजीनियरों की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। इन महिला इंजीनियरों ने राष्ट्र निर्माण में अतुलनीय योगदान दिया है। ऐसे में हम सबको इन महिला इंजीनियरों के बारे में पता होना चाहिए। आइए जानते हैं भारत की सबसे प्रसिद्ध महिला इंजीनियरों के बारे में।

 
Engineers Day 2022: ये हैं भारत की टॉप 10 महिला इंजीनियर

भारत के टॉप महिला इंजीनियर

  • ए ललिता
  • पीके थेरेसिया
  • लीलम्मा (जॉर्ज) कोशी
  • राजेश्वरी चटर्जी
  • राज्यलक्ष्मी
  • सुधीरा दास
  • कल्पना चावला
  • सुधा मूर्ति

ए ललिता
ए ललिता भारत की पहली महिला इंजीनियर थी। उनकी शादी 15 साल की छोटी उम्र में हुई थी। वह 18 साल की उम्र में विधवा हो गई। इतनी इस उम्र में वह मां भी बन गई थी। वह पढ़ाई में अच्छी थी। उनके पिता एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे। उनके पिता ने उन्हें आगे की पढ़ाई के लिए तैयार किया। जिसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग करने का फैसला किया। पुरुषों के वर्चस्व वाली इस फील्ड में उस समय तक किसी भी महिला ने इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कदम नहीं रखा था। उनका लक्ष्य एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर बनना था। उन्होंने कड़ी मेहनत की और भारत की सफल पहली महिला इंजीनियर बनी। उनके इस कदम के बाद उन्होंने महिलाओं के लिए इंजीनियरिंग में आने के दरवाजे खोल दिए थे।

 

पी के थेरेसिया
पीके थेरेसिया पहली महिला इंजीनियरिंग स्नातक थीं। वह हमेशा एक मेधावी छात्रा थी और उनके पिता ने उन्हें इंजीनियरिंग में हाथ आजमाने के लिए प्रेरित किया। उनके पिता ने भारत के एकमात्र इंजीनियरिंग कॉलेज में उन्हें दाखिला दिलाया। हालांकि उन्होंने और लीलम्मा ने ए ललिता के एक साल बाद कॉलेज में दाखिला लिया। थेरेसिया को अभी भी एकमात्र महिला के रूप में जाना जाता है जो पूरे एशिया में राज्य के लोक निर्माण विभाग की मुख्य इंजीनियर थीं।

लीलम्मा (जॉर्ज) कोशी
लीलम्मा ने मात्र 19 वर्ष की आयु में सीईजी से सिविल इंजीनियरिंग में डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की। वह भारत की पहली तीन महिला इंजीनियर में से एक थीं। उन्होंने 14 साल की उम्र में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी कर ली थी। सबसे पहले उन्होंने मेडिसिन में हाथ आजमाया। उसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग की थी। 16 साल की उम्र में लीलम्मा ने इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कदम रखा था। लोक निर्माण विभाग में लीलम्मा ने जूनियर इंजीनियर के रूप में काम किया। त्रावणकोर की महारानी ने लीलम्मा की प्रशंसा की और कहा कि वह राज्य की महिलाओं को प्रेरित करें। वह 1947 में भारत लौटीं जब भारत ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता की ओर बढ़ रहा था। वह अपने पति के साथ त्रिवेंद्रम चली गईं, जहां उन्होंने पीडब्ल्यूडी के साथ सहायक मुख्य इंजीनियर के रूप में काम किया।

राजेश्वरी चटर्जी
कर्नाटक की पहली महिला इंजीनियर राजेश्वरी चटर्जी को देश के बाहर पढ़ाई करने वाली पहली महिलाओं में से एक के रूप में भी जानी जाती हैं। वह भौतिकी और गणित के क्षेत्र में रुचि रखती थीं। संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा करने के बाद, उन्होंने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में मास्टर्स डिग्री प्राप्त की और कुछ साल बाद पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। भारत लौटने पर, वह एक शिक्षिका बनना चाहती थी और अपने ज्ञान को अपने लेखन और छात्रों के माध्यम से साझा करती थी। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, उन्होंने भारतीय विज्ञान संस्थान में प्रोफेसर के रूप में आवेदन किया। इससे वह अपने विभाग में एकमात्र महिला प्रोफेसर बन गईं। उनका काम माइक्रोवेव इंजीनियरिंग और शोध पर केंद्रित था।

राज्यलक्ष्मी
भारत में दूरसंचार इंजीनियरिंग के क्षेत्र की शुरुआत वर्ष 1945 में हुई थी। दूरसंचार के पहले बैच में राज्यलक्ष्मी को छोड़कर सभी पुरुष शामिल थे। राज्यलक्ष्मी ने इंजीनियरिंग की डिग्री के लिए CEG में प्रवेश लिया। सबसे पहले, वह इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग करने के लिए पूरी तरह तैयार थी। उन्होंने आकाशवाणी में अपने करियर की शुरुआत की। वह अपने करियर पर ध्यान केंद्रित करने के लिए देश भर में घूमी।

सुधीरा दास
सुधीरा दास का जन्म 8 मार्च 1932 को हुआ। एक भारतीय इंजीनियर थीं। वह ओडिशा राज्य की पहली महिला इंजीनियर थीं। वह ऐसे समय में एक इंजीनियर बनीं जब भारत में महिलाओं के लिए शिक्षा एक वर्जित थी। उनका जन्म 8 मार्च 1932 को ओडिशा के कटक में एक कुलीन परिवार में हुआ था। उन्हें बचपन से ही गणित का शौक था। उन्होंने 1951 में रेनशॉ कॉलेज से विज्ञान स्नातक की उपाधि प्राप्त की, जिसके बाद उन्होंने 1956 में रेडियो भौतिकी और इलेक्ट्रॉनिक्स में स्नातकोत्तर करने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कलकत्ता में प्रवेश लिया। एमएससी के साथ स्नातक करने के बाद दास ने 1957 में गणित विभाग में लेक्चरर के रूप में बरहामपुर इंजीनियरिंग स्कूल में पढ़ाना शुरू किया। बाद में वह महिला पॉलिटेक्निक, राउरकेला की प्रिंसिपल बनीं। 30 अक्टूबर 2015 को 83 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया।

कल्पना चावला
कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च 1962 को भारत के करनाल में हुआ था। कल्पना ने पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज, भारत में अध्ययन किया और 1982 में वैमानिकी इंजीनियर पाठ्यक्रम में विज्ञान स्नातक के साथ स्नातक किया। उन्होंने 1984 में टेक्सास विश्वविद्यालय में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री ली। उन्होंने 1988 में कोलोराडो विश्वविद्यालय से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी की डिग्री पूरी की। एरोबेटिक्स और टेल-व्हील हवाई जहाज उड़ाने के अलावा, कल्पना की अन्य रुचियां लंबी पैदल यात्रा, बैकपैकिंग और पढ़ना थी। उन्हें मरणोपरांत अंतरिक्ष पदक सम्मान, नासा अंतरिक्ष उड़ान पदक और विशिष्ट सेवा पदक मिला। कल्पना, जिसे उसके माता-पिता प्यार से मंटू कहते थे। वह तीन या चार साल की थी जब उसने पहली बार अपनी छत पर एक हवाई जहाज को उनके घर के ऊपर उड़ते हुए देखा। तब से ही उन्होंने हवाई जहाज उड़ाने का फैसला किया। 01 फरवरी 2003 को जब अंतरिक्ष शटल कोलंबिया पृथ्वी पर फिर से प्रवेश के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, तो उनकी मृत्यु हो गई।

सुधा मूर्ति
सुधा मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 को हुआ। वह एक भारतीय शिक्षक, लेखक और इंजीनियर हैं। वह इंफोसिस फाउंडेशन की अध्यक्ष रहीं। उन्होंने इंफोसिस के सह-संस्थापक एन आर नारायण मूर्ति से शादी की है। 2006 में भारत सरकार द्वारा सामाजिक कार्यों के लिए मूर्ति को भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। सुधा मूर्ति ने कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग में अपने पेशेवर करियर की शुरुआत की। वह इंफोसिस फाउंडेशन की चेयरपर्सन और गेट्स फाउंडेशन की सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल पहल की सदस्य हैं। उन्होंने कई अनाथालयों की स्थापना की है, ग्रामीण विकास प्रयासों में भाग लिया है, कर्नाटक के सभी सरकारी स्कूलों को कंप्यूटर और पुस्तकालय सुविधाएं प्रदान करने के लिए आंदोलन का समर्थन किया है। सुधा मूर्ति भारत की सबसे बड़ी ऑटो निर्माता टाटा इंजीनियरिंग और लोकोमोटिव कंपनी (टेल्को) में काम पर रखने वाली पहली महिला इंजीनियर बनीं।

Top 10 IAS Coaching In Jhansi: झांसी के बेस्ट IAS कोचिंग सेंटर की लिस्ट

NDA Exam Tips सैन्य अधिकारी बनने के लिए एनडीए की तैयारी कैसे करें जानिए

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Engineers Day 2022 Top 10 Female Civil Engineers In India: Engineers Day is celebrated on 15 September every year in India to commemorate the birth anniversary of the great engineer of the country, Sir Mokshagundam Visvesvaraya. Engineering is considered a men's field. But the women of India are no less than anyone, they always walk shoulder to shoulder with the men. Along with men, women engineers have also played an important role in India's music and development work. These women engineers have made an incomparable contribution in nation building. In such a situation, we all should know about these women engineers. Let us know about the most famous women engineers of India.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X